जागो दुर्गा

है माँ दुर्गा, तुम भी तो नारी थी अकेली ही असुरों पे भारी थी,   महिसासुर ने जब उपहास किया तुमने उसका सर्वनाश